पीरियड में कमजोरी क्यों आती है ? जानिए इसका इलाज कैसे करे

weakness period

क्या आपको भी मासिक धर्म आने के बाद कमजोरी महसूस होती है ? आपको पता है ऐसा क्यों होता है ? इसी वजह से आपका कोई काम करने का मन तो होता है, लेकिन आप काम नहीं कर पाती |

अक्सर महिलाओं को मासिक धर्म के समय शारीरिक कमजोरी आने लगती है, जिसकी वजह से वह अपनी जिंदगी में कुछ महत्वपूर्ण काम भी हो तो वह ठीक से नहीं कर पाती है |

दुनिया भर में महिलाओं को अपने मन में सवाल आता है कि, मासिक धर्म के समय कमजोरी आने का कारण क्या है ?

रोजमर्रा की भागदौड़ वाली जिंदगी में महिलाएं अपने खानपान की तरफ ध्यान ना देने की वजह से अक्सर उन्हें यह समस्या होती है | लेकिन कई महिलाएं ऐसी भी है जो  घर पर हो कर भी और अच्छा खानपान होने के बाद भी उन्हें मासिक धर्म के समय कमजोरी महसूस होती है |

मासिक धर्म के समय कमजोरी आना आपके मासिक चक्र के ऊपर भी निर्भर करता है | इस समय कमजोरी आना मतलब महिलाओं को ऐसा लगता है कि, उनकी अडोस पड़ोसवाली सभी चीजें घूम रही है | ऐसा कई बार आपने महसूस किया होगा कि आप कहीं बैठी हो और आपको ऐसा लग रहा है कि आप नीचे गिरने वाली हो |

इसमें आपका कोई दोष नहीं है, यह सिर्फ आपके पीरियड्स में असंतुलन बनने की वजह से होता है इसी कारण आपको कमजोरी आने लगती है |

मासिक धर्म में अधिक खून निकलने की वजह से कमजोरी आ सकती है :

अधिक खून निकलने की वजह से कमजोरी
अधिक खून निकलने की वजह से कमजोरी

ज्यादातर महिलाओं के शरीर में आयरन की कमी की वजह से खून में आयरन की मात्रा कम होती है | अगर आपको साधारण मासिक धर्म मासिक स्त्राव आ रहे हैं, तो आप दो से तीन चम्मच खून 1 महीने में अपने शरीर से बहा रही हो |

वैसे देखा जाए तो अपने शरीर से एक दो चम्मच ब्लड जाने की वजह से आपको चक्कर नहीं आते हैं | यह आपके शरीर में आयरन की मात्रा कम होने की वजह से आते हैं | कई बार अधिक मात्रा में खून निकलने की वजह से चक्कर आ सकते हैं, जिससे हेवी ब्लड फ्लो कहा जाता है | इस समय पर आप को चक्कर आ सकते हैं | 

नेशनल बायोटेक्नोलॉजी सेंटर के रिसर्च में ऐसा पाया गया है की शरीर से खून का बाहर निकलने की वजह से शरीर से आयरन की मात्रा कम होती है | जब आपका खून बाहर निकलता है, तो आपके शरीर की लाल रक्त कोशिकाएं यानी कि रेड ब्लड सेल की कमी आती है | शरीर में रेड ब्लड सेल यानी कि आरबीसी आपके शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करती है |

शरीर में ऑक्सीजन की थोड़ी सी भी कमी आने की वजह से हमें कमजोरी महसूस होने लगती है, इसीलिए आपको आलस और चक्कर जैसी समस्या होती है |

शरीर से धीरे धीरे खून निकलने की वजह से आपका शरीर दूसरी जगह से ऑक्सीजन लेने का प्रयास करता है लेकिन अधिक मात्रा में मासिक धर्म के समय खून निकलने की वजह से शरीर में अचानक से ऑक्सीजन की कमी आ जाती है, इसके कारण चक्कर आने का खतरा बढ़ जाता है |

आमतौर पर मासिक धर्म के समय चक्कर कब आते हैं ?

मासिक धर्म के समय चक्कर
मासिक धर्म के समय चक्कर

जब लड़की के पीरियड से आना शुरू होते हैं, तब पीरियड्स के पहले 2 दिन में पीरियड में पेट दर्द या सर दर्द जैसी समस्याएं होती है |

जैसे-जैसे 2 दिन की होने के बाद भी मासिक धर्म के समय अधिक खून बह रहा है, तो लड़की को थकान और शारीरिक कमजोरी आने लगती है | शरीर में थकान और शारीरिक कमजोरी की वजह से ज्यादातर महिलाओं में चिड़चिड़ापन बढ़ जाता है | अक्सर आपने देखा होगा कि पीरियड्स के समय महिलाओं में चिड़चिड़ापन की समस्या बढ़ती है |

मासिक धर्म में शरीर की कमजोरी आने से कैसे रोके ?

मासिक धर्म में शरीर की कमजोरी
मासिक धर्म में शरीर की कमजोरी

शरीर में ऑक्सीजन की कमी महसूस होने के कारण पीरियड्स के दौरान कमजोरी आती है और इसे दूर करने के लिए आपको हाइड्रेटेड होना जरूरी होता है | मासिक धर्म के समय कमजोरी से बचने के लिए आपको अधिक मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन करना चाहिए, जैसे कि ऑरेंज जूस, लेमन जूस, पाइनएप्पल जूस |

यदि आप विटामिन सी युक्त पदार्थों का सेवन करती हो, तो इससे आपके शरीर में हाइड्रेटेड रहने की क्षमता बढ़ती है | अधिक कमजोरी के लिए आप एनर्जी ड्रिंक का भी सहारा ले सकती हो या फिर जिस तरह पदार्थ में इलेक्ट्रोलाइट हो जैसे कि गेटोरेड, पावरेड या फिर glucon-d | शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए पाणी सबसे महत्वपूर्ण है |

मासिक धर्म के समय आपको ज्यादा तला हुआ खाना नहीं खाना है और जितना हो सके उतना हाइड्रेटेड रहने का प्रयास करें, इससे आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा संतुलित रहती है और आपको चक्कर नहीं आते हैं | शारीरिक कमजोरी दूर करने का यह सबसे बढ़िया तरीका है |

मासिक धर्म में कमजोरी से बचने के लिए क्या खाएं ?

मासिक धर्म में कमजोरी डाइट
मासिक धर्म में कमजोरी डाइट

मासिक धर्म के समय अधिक खून बहने की वजह से शरीर में आयरन की मात्रा कम होने लगती है | पीरियड्स में हैवी ब्लड फ्लो की वजह से एनीमिया होता है |

शरीर में रेड ब्लड सेल को बनाने के लिए आयरन बहुत जरूरी होता है, इसलिए आप डॉक्टर की सलाह से आयरन की गोली भी ले सकती हो, या फिर नीचे लिखे हुए कुछ आहार का सेवन करने से भी आप अपने शरीर में आयरन की कमी को पूरी कर सकते हो |

ब्रोकोली का सेवन :

ब्रोकोली
ब्रोकोली

हरी सब्जियों का सेवन करने से हमें आयरन और फाइबर अच्छी मात्रा में मिलता है इसलिए आप ब्रोकली का सेवन कर सकती हो | खाना खाते समय आप थोड़ा सा हिस्सा ब्रोकोली का लेकर उस पर थोड़ा सा ऑलिव ऑयल लगा कर इसका सेवन कर सकती हो |

पालक का सेवन :

पालक
पालक

हरी सब्जियों में पालक बहुत गुणकारी सब्जी मानी गई है | पालक को अच्छे से साफ करने के बाद इसे पका कर खाने से आपको आयरन अधिक मात्रा में मिलता है | कई महिलाएं पालक को कच्चा खाने का सोचती है लेकिन, पका हुआ पालक आपको कच्चे पालक से अधिक  मात्रा में आयरन दिलाता है |

स्ट्रॉबेरी का सेवन :

स्ट्रॉबेरी
स्ट्रॉबेरी

स्ट्रॉबेरी में विटामिन सी और आयरन भर भर के रखा है | 24 को खाने की वजह से आपके शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह अच्छे से बना रहता है |

तिल का सेवन करने से :

तिल
तिल

खाने में तिल का सेवन करने से आपको कॉपर, फास्फोरस, विटामिन ई, जिंक और आयरन अच्छी मात्रा में मिलता है | हो सके तो आप रोटियां बनाते समय भी तिल का इस्तेमाल कर सकती हो | खाली दिल पीरियड्स में कमजोरी की आयुर्वेदिक दवाई मानी जाती है | काला तिल खाने से यह आपके शरीर को पौष्टिक तत्व अधिक दिलाता है |

ब्राउन राइस का सेवन :

ब्राउन राइस
ब्राउन राइस

अगर आप खाने में सफेद चावल का सेवन कर रही हो तो आपको ब्राउन चावल का इस्तेमाल करना चाहिए, क्योंकि सफेद चावल से ब्राउन चावल कभी भी फायदेमंद होता है | इससे आपका फैट लॉस होने में भी मैं आपको मदद मिलती है |

टोफू का सेवन :

टोफू
टोफू

वैसे ज्यादातर महिलाएं टोफू का इस्तेमाल नहीं करती है, लेकिन अगर आपको खाना टेस्टी बनाने के साथ-साथ अपनी सेहत का भी ख्याल रखना है तो आप लोगों का सेवन कर सकती हो |

दही का सेवन :

दही
दही

मासिक धर्म के समय तनाव लेने की वजह से भी हमें कमजोरी महसूस होती है, क्योंकि जब हम तनाव में होते हैं तब हमारे शरीर में हारमोंस में बदलाव होता है, इसलिए आपको तनाव मुक्त रहना है | दही का सेवन करने से आपको कैल्शियम अधिक मात्रा में मिलता है इसके कारण तनाव दूर होता है |

अलसी के बीज का सेवन :

अलसी
अलसी

महिला स्वास्थ्य संबंधी में अलसी के बीजों का इस्तेमाल सदियों से किया जाता है | अलसी को भुनकर पीरियड का दर्द कम होता है और मासिक धर्म में अधिक खून निकलने की समस्या का इलाज होता है |

पीरियड्स में कमजोरी के लिए पतंजलि दवा :

पीरियड्स में कमजोरी के लिए पतंजलि दवा
पीरियड्स में कमजोरी के लिए पतंजलि दवा

पीरियड साइकिल यह बदलाव के कारण और अधिक खून निकलने की वजह से महिलाओं को शारीरिक कमजोरी होती है इस समय यदि आप पतंजलि दवा का सेवन करती हो तो इससे आपको फायदा जरूर मिलता है | पतंजलि दवा का सेवन करने से आपको कोई साइड इफेक्ट नहीं है, इसलिए यह सबसे बड़ा फायदा आपको मिलता है |

पतंजलि प्रदरसुधा सिरप :

पतंजलि प्रदरसुधा सिरप
पतंजलि प्रदरसुधा सिरप

पतंजलि प्रदरसुधा सिरप यह एक आयुर्वेदिक दवाई है, जो आपके मासिक धर्म में या मासिक धर्म के बाद होने वाली समस्याओं का इलाज करती है | पतंजलि प्रदरसुधा सिरप का सेवन दो चम्मच की मात्रा में दिन में दो बार करने से आपको इसका फायदा जरूर मिलता है | पतंजलि प्रदरसुधा सिरप का सेवन करने की सलाह बाबा रामदेव जी देते हैं | इस सिरप का सेवन करने से आपके पीरियड्स में दर्द की समस्या भी कम होती है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here